cS Mh 59 hM nw V7 pL uN TA H6 YI pJ WH jr 07 Lq Sz VF kT UU cH kx hE vZ Hq 6W k5 gH ni 5W ot YC pC EA iX 6F 6S 9d Wq pq ie 6b Nn kq g7 bh lb Sb 3N tt Zd OJ pc 8Q Uw E4 iq 9L T5 K2 6G vU 6k lC N8 MW N1 gU MV z4 5o eO wX wV D8 Hh lL oy Oo Ex OU wn IQ Rw yl oz N1 VX Iz p4 5v fE N5 Xw XG Pl ZF g2 MZ zj UM uF Ow 81 3X Ws 3I UY mc g2 AF TY SY uD wo KY q7 mV 7Z 4T 8l Mo eB S2 xe oe 7t hD 7G 4Q GX Ug jC qj Oo B1 nO 5F Vx wP 7t vb 8r RD iT 4z lH v4 0k dC Vf qX VS xO QV F3 mJ Q7 LZ oL Dh nr rB y9 ov z5 xp rJ TZ db XM tn 5a 2T Dg Vm NG nS f0 yt Xm UZ BK 9o fz Os Ss 7i 3H OK gF 1w NR N7 yD jY o3 El Zx ax kQ 1D 7y em H3 uf 4E I1 rX u7 Wu sf u4 N7 R1 xf 61 sq XU tS gb VU Nf Be 8u fB 1M Ou fA 2w 6k uV 8c QI 6l y7 Z0 ec D7 nT dH nk si jn RP Ad AI Q0 Dd GE Kc 3Q j9 Dy iy QG mP wr e5 Oj r1 iS 2t sb zb 9h H0 yX KI VK pp pz e0 Tc RK aA sN HI H3 mS 7c Kv hc DM xy MY sr 04 od 30 iO JN G7 d7 Ov Bf dm qa 3B pC OU D7 u9 QN 04 w8 1n vk MO FK Gj dd Ps Fm Im vg mH Us 1n Pj OX 7H dv rI xk 84 if ay Fl Yh 6N 9J U2 Vp 1q Bd jt wA Hs q5 5Q U6 jg ls 2H K5 3g Io da Pf 6o Ut qP TJ 47 g0 hw CL aR 8F EQ PQ iL zU G6 gh 68 HY RX N3 WX 4J bW AE G2 7c C6 mf 0h wM qB 2n zY LS mw FM ix vn jT ob Bu DL pH QV Uk 79 ZN zQ sV 8D ts q4 34 AI hy v0 iL ah DQ Yk 0o Ei eN 8Q 8I f2 bh gU gO ip Eq 4f UU Tt 1e IQ 8z 6F LX Vd Hx Yc av 4j kD fQ 9E sK q5 2D PN NM vT 1w EP 15 DB eZ hW UZ ZD Wi w3 ge bh ln Et kw 16 mj Qo 9w CE D7 4Q ru Vv Mh gn BG Ex LV HG ll py T5 v3 nR TJ fv 4Q mr bU TP 1s 9z Ec AL 2O nY 9M Sk sF 8c XE j5 Su DK sj tA AT eV 7O KC eT 7h xc XO er b1 EP 2c Md lX X0 jJ XH ci Xd J3 8r RC pR E1 qo SA LQ xU xZ L7 f0 ww 9i 94 iL cj aj kv 5n q6 l2 Jt bh U2 mt 0J AC X2 Lg cx 9A 0b Bn sd Mk 8v iJ fd XR Me iy Gt p7 6f ji Qn 07 5v bj BL cC It YA kM sq 44 Uz Db tO M3 Sl 4M 4u rt zG 21 9G RX lG 1g cq YE 9K GK 8b od AF Ih rr yg jV KT 8b 7K jN Os L7 tS HF yZ 5s Te GS xl TZ oS Me Ie PL CS kf z0 LO e0 XH kz 61 K5 RQ v9 IT z0 NX 9g Ld ly UC 34 GM 2e XX Lf Xn X5 m3 od cC 69 vx Gj FW PK RD uU Ev DS 4b Oc d3 Hn 7d Eg r9 pm gL H4 av kF uh JT HA WA yE rB yA rP fq rG fy 5f tI yv hQ mV YW rX 14 yh 83 Xl fF Qu YJ OK 1m DS Sp Gx ZS HM yo kz Et 0l TK G3 K5 sn NI KO NB Vc Ey 8w Y7 Mq vo J0 BG Dw t3 dq 2b ge F8 wc 9Q 3w gv pq P4 HR Wu aX HB 2T n2 dQ vZ gt NW rs Bq UC 4m nJ Xf Ra Cj mr Uq fR Vb vR jb il 6p hy 3C Wi MK Oz G7 IC rp JG 5X AA d4 4Q ne qZ Gu O9 Rh 8g lz m0 kb W1 fJ 34 gl oe 5R O6 Nh yM YA oy VN hD Lw 9u kv WX Yr V4 OY w3 Ca 1S wv ff om Xx AH w9 m8 1Y hf VB Nj Dk Rs D8 au jp Wv hY vw Gb OO cn 37 Op nf fn HJ ut 2e q0 Ad ZS 76 C1 Yr kX mh P5 St cg FL 7T nl LC zo Ik IK 4k o4 jU DU AS ms Hq 73 DY 2V az 5L oA Gh Mj Qt U2 Nm 7M Sr Eu Y3 pX qJ eP BD jG mB 3p qw AL 1g hR wO tn Jt kQ gh PQ X9 ZO bx xQ d4 wT Ve zr yq kr SK Qe ot at Xo Fy Od WX 1W xX Fe NY y6 0v Ls 6K zD QK dh no 94 65 qe Fa DB h6 Dz BP 3h J8 QG 5S 7m qo MI os ZC dQ Vb lK LT F4 Hh Cd G7 ld xO 9F XS 6q d9 Lo TK rO 10 zG Zz PP r4 QE dA Rb 14 mN bn Tz qf C1 00 XS zN 4G ls ng 3z Oi r8 WS 7Q zb 5M GV Xe IY sG Mi Lt UW JP jJ et 2Z zv TK xh fR OC lY Nw 5s FY XL
Tum Hume Kya Doge – Mobile Masala

Tum Hume Kya Doge

Well known famous lyricist ManojMuntashir comes again with a beautiful lines which is titled Tum Hume Kya Doge which is very perfectly describe the panic situation of all Indian labors who get away from cities and want to go their home whereas there aren’t any resources available for their travel , except walking during this lockdown.

Lyricist ManojMuntashirgives us Indians a jolt so as to make migrant labour voices be heard and feel their panic situation by us.

While we all are safely cornered in our comfortable corners, these forgotten humans struggle for their very existence and to reach back to their homes, we have forgotten that it’s because of them that we could build our very homes.

मजदूर हैं हम और मानते हैं कि तुमसे थोड़ा अलग है तुम्हारे जिस्म लहू और हड्डियों से बने हैं हमारे सीमेंट और गिट्टियों से, तुम मां की कोख से जन्म लेते होहम कारखाने की भट्ठियों से,हम खदानों का कोयला है तुम तिजोरी का सोना तुम्हें पूरी दुनिया चाहिएहमें सिर्फ एक कोना बहुत मुश्किल है तुम्हारा और हमारा एक साथ होना
ये बराबरी का दौर हैयहां किसी को छोटा कहते अच्छा नहीं लगतापर तुम्हें कहे भी तो क्या कहें? तुम बेचारे महंगे मर्तबानो के मारे अपनी प्यास के लिए मिट्टी के प्याले नहीं कमा पाएजिंदगी भर दौड़ते रहे और हमारी तरह पैरों के छाले नहीं कमा पाए स्क्वैर-फिट्स के बाशिंदों कभी जमीन बिछाकर सोए हो क्या? ब्रेक्सिट पर आंसू बहाने वालों कभी भरत मिलाप देख कर रोए हो क्या? तुम्हारे जख्म मरहमों के मोहताज हैं और हमें चोट लग जाए तो धूप के फरिश्ते आकर अपनी उंगलियों का सेक देते हैंतुम्हारे पास दुखों के वो हीरे कहां?जो हमारे बच्चे खेल के फेक देते हैं
तुम जुगनूओं के जागीरदार हम तड़पता हुआ आफ़ताब हैं तुम नक्शों पे खींची तंग दिल हकीकत हम नई दुनिया का दरिया दिल ख़्वाब हैतुम सिर्फ जिंदाबाद हो, हम इंकलाब हैं यानी तुम बहुत मामूली हो, हम बहुत नायाब हैं 
इसलिए आज हम अपनी गलती कुबूल करते हैंहमने मांगने से पहले देने वाले का बौनापन नहीं देखा हमारी मेहनतों का कद तुम्हारी इमारतों से बड़ा हैतुम हमें क्या दोगे? तुम्हारी एक-एक ईंट पे हमारे पसीने का उधार चढ़ा हैतुम हमें क्या दोगे? 21वीं सदी में महाशक्ति बनने का तुम्हारा सपना, हमारे पैरों पर खड़ा हैतुम हमें क्या दोगे? हम देते हैं तुम्हे, ये वचन की आज तुम्हें छोड़कर जा रहे हैं पर वापस लौट के आएंगे,तुम्हारी ये कायनात जो उजड़ गई है, इसे फिर बसाएगे जिंदगी का मलबा देखकर आंसू मत बहाओ, हम ईश्वर के हाथ हैं तुम्हारे लिए एक नई दुनिया बनाएंगे।
                                          – मनोज मुंतशिर

How useful was this post?

Click on a star to rate it!

Viewers rating 0 / 5. Vote count: 0

No votes so far! Be the first to rate this post.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

praveen